Chhattisgarh Latest News

Padma Awards 2023: CG की पंडवानी गायिका ऊषा बारले ने बढ़ाया छत्तीसगढ़ का मान

Spread the love

Padma Awards 2023: पद्म श्री अवार्ड के लिये चयनित छत्तीसगढ़ की तीन विभूतियों में सुश्री उषा बारले, डोमार सिंह कुँवर और अजय कुमार मंडावी शामिल हैं।

ऊषा बारले पंडवानी गायिका

छत्तीसगढ़ की पंडवानी गायिका ऊषा बारले ने प्रदेश का मान सम्मना बढ़ाया है. 23 मार्च को पद्म पुरस्कार दिए गए. कई तस्वीरें आईं. एक तस्वीर आई, जिसमें नारंगी साड़ी में एक महिला प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ज़मीन पर बैठकर प्रणाम कर रही हैं. उषा बारले. पंडवानी गायन में अपने अद्भुत शिल्प के लिए उन्हें पद्मश्री से नवाज़ा गया है.उषा बारले छत्तीसगढ़ के भिलाई की रहने वाली हैं. 7 साल की उम्र से ही पंडवानी गा रही हैं. यानी बीते 45 बरस से.अब तक 12 से ज़्यादा देशों में पंडवानी की विधा प्रस्तुति दे चुकी हैं

घर से बुनियादी तालीम के बाद उषा बारले ने दिग्गज गायिका तीजनबाई से शिक्षा ली. पंडवानी गायन के लिए भारत सरकार ने तीजनबाई को पद्म श्री, पद्म भूषण और पद्म विभूषण से सम्मानित किया है. इन्हीं तीजन बाई से ही उषा ने पंडवानी पढ़ने और गाना सीखा.

डोमार सिंह कुंवर

बालोद जिला निवासी छत्तीसगढ़ी नाट्य नाच कलाकार डोमार सिंह कुंवर ने बालोद जिला सहित पूरे राज्य को गौरवान्वित किया है. बालोद जिले के ग्राम लाटाबोड़ निवासी छत्तीसगढ़ी नाट्य नाच कलाकार डोमार सिंह कुंवर को कला के क्षेत्र में पद्मश्री से सम्मानित किया गया.

अजय कुमार मंडावी
कांकेर जिले के ग्राम गोविंदपुर के रहने वाले अजय कुमार मंडावी ने काष्ठ शिल्प कला में गोंड ट्राईबल कला का समागम किया है। उन्होंने नक्सली क्षेत्र के प्रभावित और भटके हुए लोगों को काष्ठ शिल्प कला से जोड़ते हुए क्षेत्र के 350 से ज्यादा लोगों के जीवन में बदलाव लेकर आने के साथ-साथ लकड़ी की अद्भुत कला से युवाओं को जोड़ा है। युवाओं क हाथ से बंदूक छुड़ाकर छेनी उठाने के लिए प्रेरित करने जैसे कार्यों के लिए मंडावी को पद्मश्री सम्मान से सम्मानित किया जाएगा।

इसे भी पढ़े:-CG Raipur News: परीक्षाकाल में बॉलीवुड गायक अर्जित सिंह के कार्यक्रम का विरोध,कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Back to top button